बिजली हमारे घरों तक कैसे पहुँचती है? तथा भूसम्पर्कन: मुख्य स्विच और फ्यूज

बिजली घरों में उत्पन्न विद्युत हमारे घरों तक पहुँचने के लिए एक लंबा मार्ग तय करती है। यह बिजली घर से ग्रिड स्टेशन में आती है और फिर मुख्य उप संयंत्र तक यहां से इसकी आपूर्ति मध्यस्थ उप संयंत्र को की जाती है और फिर यहां से ये हमारे घरों के पास मुख्य लाइनों अर्थात् विद्युत खंबों तक पहुंचती है। विद्युत खंभों से ये भूमिगत तारों के द्वारा हमारे घर के विद्युत मेन्स तक पहुंचती है।

आपके घर या इमारत में विद्युत मेन्स में प्रत्येक घर के लिए एक मीटर रीडिंग बॉक्स, एक मुख्य स्विच और एक फ्यूज बॉक्स लगा होता है। यहां दिखाई देने वाला लाल तार विद्युतमय तार है और काले तार में उदासीन और भू संपकण तार होते हैं जो इसके अंदर पर प्रिबथ होते हैं।

भूसम्पर्कन

घर पर हमारे पास एक मुख्य स्विच और एक फ्यूज बॉक्स होता है।

मुख्य स्विच

मुख्य स्विच को खोलने पर आपको तीन तार दिखाई देंगे।

भूरा तार जो कि विद्युत में तार या धनात्मक होता है।

नीला तार उदासीन तार होता है और

हरे और पीले तार को भूसंपर्क तार या भूमि तार (अर्थिंग तार) कहते हैं।

 

अर्थिंग के लाभ

भूसंपर्क तार को सामान्यतः घर के निकट भूमि में धातु की प्लेट से जोड़ा जाता है। इसका सुरक्षा उपाय के लिए उपयोग किया जाता है। विशेष रूप से उन उपकरणों के लिए जिनके आवरण धात्विक होते हैं।

उदाहरण के लिए विद्युत इस्त्री, टोस्टर, मेज़ का पंखा और रेफ्रिजरेटर।

इस धात्विक आवरण को भूसंपर्क तार से संयोजित किया जाता है जो धारा के लिए निम्न प्रतिरोध का चालन पद प्रदान करता है। ये सुनिश्चित करता है कि धात्विक आवरण में विद्युत धारा का कोई क्षरण होने पर उसका वैभव भूमि के विभव के बराबर हो जाता है और उपकरण का उपयोग करने वाले व्यक्ति को विद्युत आघात नहीं लगता है।

और जहां भूसम्पर्कन नहीं होता है, वहां विद्युत आघात लगता है।

घर के भीतर विद्युत आपूर्ति आमतौर पर मुख्य स्विच से जुड़े अलग परिपथों के माध्यम से प्रबंधित की जाती है। पहला परिपथ गीजर पानी (गर्म करने का यंत्र), वायु क्षेत्र आदि से जुड़े उपकरणों तक 15 एम्पीयर धारा ले जाता है।

दूसरा परिपत्र बल्बों पंखों और दूसरी कम धारा का उपयोग करने वाले उपकरणों में पांच एम्पीयर (5A) धारा ले जाता है।

फ्यूज

घरों में विद्युत से लगने वाली अधिकांश आगू का कारण लघु पत्तन है। विद्युत पत्तन सब हो सकता है जब घर में दो मुख्य तार विद्युत रोधन के क्षतिग्रस्त होने से संपर्क में आते हैं या अति धरण हो इससे आग या विस्फोट हो सकता है।

फ्यूज धारा के अधीभारण को रोकने में सहायता करता है, जिससे लघुपतन होता है और विद्युत उपकरणों को विभव क्षति पहुंचती है।

एक फ्यूज एक पतली धातु का तार होता है जो बहुत अधिक धारा से उपकरण की रक्षा करता है।

जब परिपथ से धारा प्रवाहित होती है तो धातू के तारों में ऊष्मा पैदा होती है। विद्युत की बहुत अधिक मात्रा फ्यूज से गुजरती है तो ये है दूसरे घटकों की अपेक्षा अधिक गर्म हो जाता है और पिघल जाता है। जब फ्यूज पिघलता है तो धारा का प्रवाह पूरी तरह से रुक जाता है।

इस प्रकार उपकरणों के महंगे घटकों की क्षति और संभावित आग या लघुपथन रुक जाता है।

जिन तीन पिन वाले प्लग का हम उपयोग करते हैं उनमें भूसंपर्क तार और फ्यूज भी मौजूद होता है।

इस प्रकार भूसंपर्क तार और फ्यूज दोनों सभी घरेलू विद्युत परिपथों के लिए महत्वपूर्ण घटक हैं, जो विद्युत उपकरणों के साथ साथ इसे प्रयोग करने वाले व्यक्ति की सुरक्षा भी सुनिश्चित करते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.